JEE और NEET के लिए परीक्षा देने वाले छात्रों को 2019 से उच्च शिक्षा के लिए हाने वाली परीक्षाओं की कोचिंग के लिए किसी बड़े शुल्क का भुगतान नहीं करना होगा। सरकार ने कहा है की मुफ्त कोचिंग होगी,नेशनल टेस्टिंग एजेंसी उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं को मुफ्त आयोजित करवाएगी। सरकार अपनी इस योजना के लिए राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी अपने 2,697 परीक्षण अभ्यास केंद्रों को अगले वर्ष से शिक्षण केंद्रों में परिवर्तित कर देगी।

8 सितंबर से इस योजना पर कार्य शुरू कर दिया जाएगा। एचआरडी मिनिस्ट्री के अधिकारी ने कहा है कि प्रैक्टिस सेंटर पहली बार छात्रों को सिर्फ और सिर्फ JEE-Main के लिए मॉक परीक्षा देने का मौका देगा। नीट-यूजी कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा नहीं है इसलिए इसके लिए कोई मॉक परीक्षा नहीं होगी।

आपको बता दें कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी अपनी एप और ऑफिशियल वेबसाइट 1 सितंबर को जारी करेगी। 1 सितंबर को ही एजेंसी UGC-NET 2019 और JEE-Main के ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया भी शुरू करेंगी। इसके लिए अंतिम तिथि 30 सितंबर निर्धारित कि गई है।

इस योजना का फायदा सभी को है

– कोचिंग किसी भी तरह का शुल्क जमा नहीं करना होगा।

– आर्थिक परेशानियों के चलते जो छात्र कोचिंग नहीं ले पाते वे अब आसानी से jee, neet कोर्स को करने में झिझकेंगे नहीं।

– प्राइवेट कोचिंग सेंटर जो ज्यादा पीस लेेते हैं उनका दबदबा कम हो जाएगा। सरकार का यह कदम काफी अच्छी है

छात्र ऐसे करें जिस्ट्रेशन

– जेईई-मेन (JEE-Main 2019) के लिए छात्रों का मॉक टेस्ट का सामना करना होगा।

– इसके लिए छात्रो को मोबाइल एप या वेेबसाइट पर रजिस्टर करना होगा।

– जैसे ही आपके सामने मॉक टेस्ट के पपिणाम आएंगे, सेंटर के टीचर आपको आपकी गलतियों को सुधारने में मदद करेंगे।

नोट- जो छात्र ऑफिशियल वेबसाइट के ज़रिए रजिस्टर करेंगे, वे National Eligibilitycum-Entrance Test-UG और UGC-NET के लिए आयोजित किए जाने वाली मॉक परीक्षा का हिस्सा बन सकते हैं।

ये मुख्य जानकारी

– राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी अपने 2,697 परीक्षण अभ्यास केंद्रों को अगले वर्ष से शिक्षण केंद्रों में परिवर्तित कर देगी

– एचआरडी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, अभ्यास केंद्र 8 सितंबर से काम करना शुरू कर देंगे।

– ये केंद्र किसी भी तरह का शुल्क नहीं लेंगे और ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट को लाभ मिलेगा,इसलिए उन छात्रों के लिए विशेष रूप से सहायक होंगे जो वित्तीय बाधाओं के कारण प्रवेश नहीं लेते हैं। जो स्टूडेंट पैसे की बजह से JEE-Main का तयारी नहीं कर पते थे,उनके लिए सरकार ये कदम उठाई है आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे स्टूडेंट के लिए ए बहुत बड़ी खबर है!

इन छात्रों को होगा फायदा

मंत्रालय के अधिकारियों ने आगे कहा, ‘प्लान यह है कि इन सेंटरों को महज प्रैक्टिस सेंटर न बनाकर टीचिंग सेंटर बना दिया जाए। ये सेंटर पे कोई भी फीस नहीं लिया जायेगा। इसका फायदा खासकर ऐसे टैलंटेड छात्रों को होगा, जिन्हे पढ़ना तो है लेकिन आर्थिक परेशानी से जूझ रहे है जिनके ख्वाब तो बेहद ऊंचे हैं, लेकिन आर्थिक परेशानियों की वजह से कोचिंग नहीं ले पाते। गांवों और शहरों के बाहरी इलाकों में रहने वाले छात्रों को इससे बहुत फायदा होगा।

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help