भारतीय टीम सीरीज गंवा चुकी है शुक्रवार से शुरू हो रहे पांचवें टेस्ट में सम्मान बचाने के लिए उतरेगी. टीम इंडिया आखिरी टेस्ट जीतकर सीरीज का समापन करना चाहेगी.भारतीय टीम सीरीज गंवाने से मायूस भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार से शुरू हो रहे पांचवें और अंतिम टेस्ट में इंग्लैंड के पूर्व कप्तानएलिस्टेयर कुक के विदाई टेस्ट में जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेगी.इंग्लैंड अंतिम मैच में जीत के लिए पुरे दम ख़म लगाएगी। इंग्लैंड ने पांच मैचों की सीरीज में 3-1 की अजेय बढ़त बना ली है, जिसके कारण ओवल में होने वाला मैच पांचवें और अंतिम महज औपचारिक बन गया है,वहीं विराट कोहली की टीम सीरीज में सकारात्मक और जीत के इरादे से उतारेगी।

भारत के लिए 2-3 का नतीजा 1-4 से कहीं बेहतर होगा और कोहली की टीम टेस्ट जीत के लिए बेताब दिख रही है. मुख्य कोच रवि शास्त्री ने यह कहकर टीम का मनोबल बढ़ाने का प्रयास किया है कि यह पिछले 15 साल में विदेशी दौरों पर जाने वाली यह सर्वश्रेष्ठ टीम है. हालांकि तथ्य इसे साबित नहीं करते.

गावस्कर ने शास्त्री को भारतीय टीम के पिछले विदेशी रिकॉर्ड की याद दिलाई।और कहा की पिछले रिकॉड काफी बेहतर है |

आंकड़े को देखें तो सौरव गांगुली की कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड (2002) और ऑस्ट्रेलिया (2003-04) में सीरीज ड्रॉ करवाई और वेस्टइंडीज में टीम टेस्ट मैच और पाकिस्तान में सीरीज जीतने में सफल रही |

राहुल द्रविड़ के नेतृत्व में भारत ने वेस्टइंडीज में 2006 और इंग्लैंड में 2007 में सीरीज जीती और दक्षिण अफ्रीका में भी टीम एक टेस्ट जीतने में सफल रही |

वही अनिल कुंबले की अगुवाई में भारत ने पर्थ के उछाल भरे विकेट पर जीती और पर्थ के उछाल भरे विकेट पर खेलना काफी कठिन होता है पर पहली बार टेस्ट जीता, जबकि महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में भारत ने न्यूजीलैंड में सीरीज जीती और पहली बार दक्षिण अफ्रीका में सीरीज ड्रॉ कराने में सफल रही.

सबसे ज्यादा टेस्ट शतक लगाने वाले भारतीय

 

खिलाड़ी          टेस्ट                  शतक

सचिन तेंडुलकर   200              51

राहुल द्रविड़          164              36

सुनील गावस्कर    125              34

विराट कोहली       70                23

वीरेंद्र सहवाग       104              23

 

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में लगातार दो सीरीज गंवाने के बाद विदेशी दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम का मिथक टूट गया है और टीम इंडिया यह साबित करने में नाकाम रही है कि वह उपमहाद्वीप के बाहर सीरीज जीतने में सक्षम है.कोहली की टीम हालांकि 2018 में दोनों विदेशी सीरीज गंवाने के बावजूद अब तक अपनी शीर्ष टेस्ट रैंकिंग बचाने में सफल रही है. टीम का संयोजन एक बार फिर चर्चा का विषय है. टीम इंडिया सर्वश्रेष्ठ 11 खिलाड़ियों के साथ उतरना चाहेगी, लेकिन प्रयोग की संभावना भी बनी हुई है.टेस्ट टीम में पृथ्वी शॉ को शामिल करने से पता चलता है कि भारतीय चयनकर्ताओं की नजरें सलामी बल्लेबाजों के विकल्प पर टिकी हैं. मुरली विजय के टीम से बाहर होने के बाद चयनकर्ताओं को अपनी योजनाएं जल्द ही पुख्ता करनी होंगी, क्योंकि टीम दिसंबर में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाएगी.

ऐसा माना जा रहा है कि पृथ्वी को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों के खिलाफ परखा जाना चाहिए. अगर वह इस एकमात्र टेस्ट में विफल भी रहते हैं तो भी 18 साल की उम्र के कारण उनके पास दोबारा आगे बढ़ने का पर्याप्त समय होगा. अगर वह सफल रहते हैं तो ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए सलामी जोड़ी की समस्या का हल निकल सकता है.दूसरी तरफ कुछ लोगों का मानना है कि शिखर धवन और लोकेश राहुल की मौजूदा सलामी जोड़ी को बरकरार रखा जाना चाहिए. अगर चयनकर्ताओं की नजरें भविष्य पर हैं, तो यह इन दोनों में से एक के पास वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज और स्वदेश में प्रथम श्रेणी सत्र के शुरू होने से पहले प्रभावित करने का अंतिम मौका होगा. शुरुआती संकेत हैं कि पृथ्वी को मौके के लिए कम से कम घरेलू सत्र तक इंतजार करना होगा.

संभावना है की रवींद्र जडेजा को इस दौरे पर पहला टेस्ट खेलने का मौका मिल सकता है क्योंकि रविचंद्रन अश्विन ने बुधवार को नेट पर उन्होंने गेंदबाजी नहीं की, जबकि उनकी मूवमेंट में भी समस्या दिख रही थी.टीम प्रबंधन ने अभी तक कोई पुष्टि नहीं की है, लेकिन विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार अश्विन के कूल्हे की मांसपेशियों में जकड़न और चोट बढ़ गई है और वह अंतिम टेस्ट में नहीं खेल पाएंगे.उनकी जगह पे रवींद्र जडेजा को शामिल किया सकता है.

एशिया कप यूएई में अगले हफ्ते शुरू हो रहे है एशिया कप को देखते हुए जसप्रीत बुमराह को कुछ टाइम के लिए आराम दिया जा सकता है.भारत की समिति ओवरों में बुमराह और शार्दुल ठाकुर को टीम का हिस्सा रखा गया हैं.इंग्लैंड के लिए यह टेस्ट मैच भावनात्मक रूप से अहम होगा.सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक एलिस्टेयर कुक अंतिम बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलते नजर आएंगे और इसके साथ ही श्रीलंका दौरे के लिए टीम की सलामी जोड़ी की तलाश भी शुरू हो जाएगी।

कुक के संन्यास की घोषणा के बाद अभी तक चयनकर्ताओं ने पांचवें टेस्ट की टीम में कोई बदलाव नहीं किया जो दर्शाता है कि चयनकर्ताओं ने दूसरे सलामी बल्लेबाज के. जेनिंग्स पर भरोसा बरकरार रखा है |

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help