अगर आपको drone उड़ाने का शौक हैं, तो अब आप कुछ विधि-निषेध के पालन करने से ड्रोन उड़ा सकते हैं क्योंकि अब drone उड़ाना legal बन गया हैं। सरकार ने ड्रोन उड़ाना, दिसंबर 2018 से legal कर दिया और इस के लिए पहले register करना होगा। इस मामले में विमानयान शाखा ने सोमवार एक पालिसी जारी कि। इस पालिसी के नियम के अनुसार आपको पहले रजिस्टर करना होगा और यूनिक आइडेंटिटी नंबर (UIN) पाना होगा।
Registration के नियम

आपका drone 250 ग्राम से 150kg का वहन करने वाले होंगे। इन ड्रोन में माइक्रो, स्माल, मध्यम, और large categories होंगे। पहले ड्रोन के size के अनुसार registration करना होगा।

ड्रोन बनाने का तरीका पहले जैसे
नए पालिसी के अनुसार ड्रोन बनाने के प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं हैं लेकिन ड्रोन तैयार करनेवाले इस बात पर सावधान होना चाहिए की ड्रोन अगर कोई अनधिकृत जगह पर उड़ रहा हैं तो उसे बेस एरिया पर लाने का फीचर होना चाहिए।
अगर drone सिर्फ 200 फ़ीट तक ही उड़ सकता हैं और 2 किलो से कम हैं, तो ऐसे ड्रोन के लिए सरकारी सहमति के जरूरत नहीं हैं।
अगर अपने किसी aviation संस्था में ड्रोन चलने की शिक्षा पायी हैं, आपको UIN पाने का जरूरत नहीं हैं और नजदीकी पुलिस स्टेशन से इजाजत पाकर आप ड्रोन उडा सकते हैं।
बिना इजाजत के घनी आबादी के जगह पर ड्रोन उड़ाना क़ानूनल जुर्म हैं और नजदीकी एयरपोर्ट के 5 किलोमीटर के अंदर ड्रोन उड़ाना भी मना हैं। अंतरार्ष्ट्रीय सीमाएं जैसे लाइन ऑफ़ कण्ट्रोल, लाइन ऑफ़ एक्चुअल कण्ट्रोल,और एक्चुअल ग्राउंड पोजीशन लाइन के 500 मीटर के अंदर ड्रोन उड़ाना गैरकानूनी हैं।
ड्रोन को विजय चौक, संसद,राष्ट्रपति भवन आदि स्थलों के 5 किलोमीटर के रेडियस से दूर रखना होगा। मिलिट्री और गृह मंत्रालय के इमारतों पर ड्रोन उड़ाना मना हैं।
चेतावनी के तौर पर चलनेवाला गाडी या एयरक्राफ्ट से ड्रोन उड़ाने का कोशिश नहीं करनि चाहिए।

Type in
Details available only for Indian languages
Settings
Help
Indian language typing help
View Detailed Help